Online Apply (Click Here)

 दाऊद नगर महाविद्यालय में खुले  व्यवसायिक एवं रोजगार उन्मुखी प्रोफेशनल पाठ्यक्रम

  प्रिय विद्यार्थियो,  मगध विश्वविद्यालय के अंतर्गत अंगीभूत महाविद्यालय – दाउदनगर महाविद्यालय, दाउदनगर में कई पाठ्यक्रमों की पढ़ाई की जाती है ।  विगत  कुछ वर्षों से दाऊदनगर महाविद्यालय में साधारण B.A., B.Sc. एवं B. Com  आदि  के अंतर्गत आने वाले  साधारण व परंपरागत विषयों के अलावा कुछ नए  व्यवसायिक एवं रोजगार उन्मुखी प्रोफेशनल पाठ्यक्रमों   के भी संचालन किए जा रहे हैं।

दाउदनगर,  अरवल एवं औरंगाबाद के ग्रामीण क्षेत्रों के विद्यार्थियों के लिए यह एक सुनहरा अवसर है। इन प्रोफेशनल  पाठ्यक्रमों  की पढ़ाई करने के बाद विद्यार्थी जहां एक  ओर  बीएससी (B.Sc.) जैसी स्नातक  डिग्री प्राप्त  कर सकते हैं, वहां ही इसके साथ साथ व जीवन में एक हुनर भी सीख सकते हैं।  इन प्रोफेशनल पाठ्यक्रमों की पढ़ाई एवं डिग्री विद्यार्थियों को स्नातक के बाद तुरंत नौकरी पाने में  मदद करती है,  और विद्यार्थियों को जल्द ही स्वावलंबी  बनने में सहायक होते हैं तथा विद्यार्थी अपने पैरों पर जल्द ही खड़े हो सकते हैं।  इसी प्रकार के कुछ प्रोफेशनल और वोकेशनल पाठ्यक्रम जैसे बीएससी आईटी (B.Sc. IT,  बीएससी बायो टेक्नोलॉजी (B.Sc. Biotechnology), बीबीएम (BBM) और बीसीए (BCA)  जैसे  पाठ्यक्रमों को लेकर दाऊद नगर महाविद्यालय आपके क्षेत्र में आया है।

अतः आप सभी छात्र-छात्राओं, अभिभावकों एवं जन सामान्य से  सादर अनुरोध है कि दाउदनगर महाविद्यालय प्रांगण में पधारे और इन विषयों के बारे में पाठ्यक्रम  एवं इसके अन्य फायदों से अवगत होकर  जल्द से जल्द उचित पाठ्यक्रमों में नामांकन करा कर अपने जीवन में एक नई शैली को अर्जित करें और अपने जीवन को और सार्थक बनाएं।

क्यों जरूरी है प्रोफेशनल या वोकेशनल पाठ्यक्रम?:

आज के निजीकरण एवं वैश्वीकरण के परिवेश में जहां एक ओर सरकारी नौकरियों की कमी हो रही है और निजी एवं गैर पारंपरिक  संस्थागत एवं  गैर संस्थागत नौकरियों  नौकरियों के लिए नए अवसर मिल रहे हैं।  ऐसे परिवेश में  पारंपरिक सरकारी नौकरियों के पीछे भागकर हम ज्यादा समय व्यर्थ ना करें  और नव ऊर्जा से संचारित नए अवसरों को प्रदान करने वाले निजी, गैर पारंपरिक,  संस्थागत व गैर संस्थागत  नौकरियों के लिए प्रयास करें।

साथ ही जहां एक  ओर नए युग में भारत के तत्कालीन प्रधानमंत्री एवं बिहार के तत्कालीन मुख्यमंत्री देश के युवाओं को सेल्फ एंप्लॉयमेंट और एंटरप्रेन्योरशिप (Self employment and entrepreneurship)  के द्वारा स्वावलंबी बनने के लिए प्रेरित कर रहे हैं वैसे समय में यह प्रोफेशनल  पाठ्यक्रमों की उपयोगिता विद्यार्थियों के लिए काफी मददगार साबित होगा।यह 21वीं सदी के भारत  के सपनों की उड़ान को साकार करने में बहुत मदद करेगा।

  क्यों चुने हम दाऊद नगर महाविद्यालय?

दाऊद नगर महाविद्यालय आपके क्षेत्र में ग्रामीण परिवेश में बहुत ही अग्रणी महाविद्यालय है, हमारे प्राचार्य महोदय विगत 1 वर्षों में महाविद्यालय में कई सारे विकास कार्य करवाए हैं जोकि विद्यार्थियों  की पढ़ाई में बहुत ही मददगार साबित हो रहा है। अभी महाविद्यालय में विभिन्न प्रकार की  प्रयोगशालाओं का  नव परिमार्जन व नव निर्माण किया जा रहा है।  महाविद्यालय में कंप्यूटर की लैब सभी संसाधनों से लैस है, इसमें नए तकनीकी  को परिमार्जित किया गया है। अतः इस नए परिवेश में  विद्यार्थी दूसरे महाविद्यालयों के की तुलना में  कमतर शुल्क में  अच्छी पढ़ाई कर सकते हैं। और साथ-साथ अपने घर अपने घर के नजदीक रहकर अच्छे पाठ्यक्रमों की पढ़ाई कर सकते हैं।  ऊर्जा से संचालित हमारे नए शिक्षक इन पाठ्यक्रमों को क्रियान्वित करने में चार चांद लगा रहे हैं, वैसे में मौके का फायदा नज़दीक घर के नजदीक से उठाना विद्यार्थियों के लिए लाभकारी होगा।

 क्यों चुने हम बीएससी आईटी (B.Sc. – IT ) का पाठ्यक्रम?

वैसे तो कई संस्थानों में विभिन्न प्रकार के प्रोफेशनल और वोकेशनल पाठ्यक्रम चलाए जा रहे हैं, सभी पाठ्यक्रम विद्यार्थियों के रूचि के अनुसार एवं उपलब्ध संसाधनों एवं बाजार में नौकरियों की उपलब्धता के अनुसार उपयोगी हैं, परंतु बीएससी आईटी आज के परिवेश में ज्यादातर क्यों   लाभ कर है , यह प्रश्न स्वाभाविक है।  बीएससी आईटी विद्यार्थियों को कंप्यूटर के हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के विज्ञान की शिक्षा देता है।यह पाठ्यक्रम कंप्यूटर इंजीनियरिंग, सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट एवं डिजाइनिंग, कंप्यूटर एवं मोबाइल एप्लीकेशन डिजाइनिंग इत्यादि के क्षेत्र में उत्तम अवसर प्रदान करता है। आज जहां मार्केट ऑफ डाटा  के क्षेत्र में नौकरियों की बहुत उपलब्धता है एवं लगभग प्रत्येक ऑफिस, बाजार, संस्थान एवं व्यापारिक संस्थाओं पर कंप्यूटर और उससे संबंधित कार्यों के लिए नौकरियों की आवश्यकता है वही बीएससी आईटी के छात्रों को नौकरियों की नए और सर मिलने की संभावना बहुत ज्यादा है। ग्रामीण परिवेश में  विद्यार्थियों  को जल्द से जल्द नौकरी   पा कर जल्द से जल्द आत्मनिर्भर होने की आवश्यकता होती है, वही बीएससी आईटी के बच्चों को स्नातक के तुरंत बाद नौकरी मिलने की संभावनाएं ज्यादा होती है।  साथ ही जो विद्यार्थी आगे अपनी पढ़ाई जारी रखना चाहते हैं उनके लिए   उच्चतर शिक्षा के अवसर भी बहुत उपलब्ध हैं, अतः दाउदनगर एवं आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों के विद्यार्थियों के लिए यह पाठ्यक्रम काफी  लाभ कर होगा।

B.Sc – IT पाठ्यक्रम हेतु न्यूनतम योग्यताएं:

१. वैसे विद्यार्थी जिन्होंने 12वीं  गणित के साथ विज्ञान की परीक्षा में 50%   या  अधिक प्राप्त अंकों के साथ उत्तीर्ण छात्र नामांकन के लिए आवेदन कर सकते हैं।

२.  नामांकन के लिए मेधा सूची या परीक्षा के द्वारा सूची तैयार की जाएगी।

३.  समय-समय पर  बिहार शिक्षा विभाग, मगध विश्वविद्यालय  एवं दाऊद नगर महाविद्यालय के सशक्त कमेटी के द्वारा दिए गए निर्देशों के अनुसार योग्यताओं में बदलाव किए जा सकते हैं।

 पाठ्यक्रम की अवधि:

बीएससी आईटी का पाठ्यक्रम  अन्य स्नातक पाठ्यक्रमों के जैसा 6  सेमेस्टर या 3 वर्षीय होगा। इस विषय में  मगध विश्वविद्यालय के द्वारा सुझाए गए फैसले अंतिम मान्य होंगे।

कैसे होंगे शिक्षक:

क्योंकि यह पाठ्यक्रम सेल्फ फाइनेंस यानी कि स्वपोषित है,  अतः इन विषयों के लिए शिक्षकों एवं अन्य कर्मचारियों की नियुक्ति महाविद्यालय द्वारा (विश्वविद्यालय के द्वारा सुझाए गए नियमानुसार)  किए जाएंगे, अतः उपलब्ध व्यक्ति संसाधनों में से सर्वोत्तम शिक्षकों को नियुक्त कर विद्यार्थियों के भविष्य का सार्थक व उचित ध्यान रखा जाएगा। अच्छे वह बड़े संस्थानों के अनुभव प्राप्त शिक्षकों को वरीयता दी जाएगी।

क्या है नौकरियों की संभावनाएं, क्या महाविद्यालय नौकरी की गारंटी देता है?

आईटी क्षेत्र में आज नौकरियों के अवसर की भरमार है,  कई बड़ी कंपनियां जैसे फेसबुक,  गूगल,  माइक्रोसॉफ्ट,  इंफोसिस,  महिंद्रा ट्रेक्,  ओरेकल,  एचसीएल एवं अन्य कंप्यूटर  एवं सॉफ्टवेयर से जुड़े कंपनियां निजी क्षेत्रों में नौकरिया प्रदान करती हैं। वही सरकारी क्षेत्रों में लगभग सारे क्षेत्र जैसे बैंकिंग, रेलवे, आर्म्ड फोर्सेस, सभी सरकारी कार्यालयों व मंत्रालयों इत्यादि में कंप्यूटर एवं कंप्यूटर से संबंधित नौकरियों के अवसर हैं।

महाविद्यालय किसी भी विद्यार्थी को नौकरी की गारंटी नहीं देता है परंतु पाठ्यक्रम की संरचना और शिक्षकों एवं संस्थान के द्वारा पढ़ाई यह सुनिश्चित करेगा की नामांकित सभी विद्यार्थियों को उनके योग्यता अनुसार नौकरी सुनिश्चित हो सके। इस प्रयास के लिए भविष्य में कई कंपनियों के   साथ संबंध स्थापित कर नौकरी सुनिश्चित करने का प्रयास किया जाएगा।

कैसे करें पाठ्यक्रम का चुनाव?

प्रिय विद्यार्थियों,  पाठ्यक्रम का चुनाव आपकी रुचि, आपके  पास उपलब्ध संसाधनों एवं अपने बौद्धिक व मानसिक कार्य क्षमता को ध्यान में रखकर तथा भविष्य की योजनाओं को ध्यान में रखकर पाठ्यक्रम के चुनाव स्वयं करें। किसी के बहकावे में ना आकर, अपने भविष्य के लिए स्वयं निर्णय लें।

इसकी आवेदन प्रक्रिया क्या है?

दाऊद नगर महाविद्यालय में नामांकन हेतु अपने घर बैठे ऑनलाइन नामांकन के लिए आवेदन कर सकते हैं, इसके लिए दाऊद नगर महाविद्यालय के वेबसाइट  www.daudnagarcollege.org पर लॉग इन कर  या महाविद्यालय से सीधे संपर्क कर आवेदन कर सकते हैं।

कब होगी आवेदन और क्या है आवेदन की अंतिम तिथि?

आवेदन की शुरुआत अगस्त के दूसरे सप्ताह से शुरू होगी और इसकी अंतिम तिथि 31 अगस्त 2020 है। वर्तमान समय में कोरोना  महामारी के कारण केंद्रीय गृह मंत्रालय एवं बिहार सरकार गृह मंत्रालय के द्वारा दिए गए  ससमय निर्देशों  को ध्यान में रखकर इन तिथियों का बदलाव की संभावना है।

डॉ०  प्रवीण कुमार सिंह, मुख्य संयोजक, B.Sc. – IT असिस्टेंट प्रोफेसर  प्राणी विज्ञान, दाऊद नगर महाविद्यालय,  दाउदनगर ( मगध विश्वविद्यालय), औरंगाबाद, बिहार

डॉक्टर इंदु भूषण प्रसाद, सह-संयोजक, B.Sc. – IT, असिस्टेंट प्रोफेसर  इतिहास, दाऊद नगर महाविद्यालय,  दाउदनगर ( मगध विश्वविद्यालय), औरंगाबाद, बिहार